C,C++/JAVA/BASH/ASM ARENA

वह प्रदीप जो दीख रहा है झिलमिल दूर नही है थक कर बैठ गये क्या भाई मन्जिल दूर नही है चिन्गारी बन गयी लहू की बून्द गिरी जो पग से चमक रहे पीछे मुड देखो चरण-चिनह जगमग से बाकी होश तभी तक, जब तक जलता तूर नही है थक कर बैठ गये क्या भाई मन्जिल दूर नही है अपनी हड्डी की मशाल से हृदय चीरते तम का, सारी रात चले तुम दुख झेलते कुलिश का। एक खेय है शेष, किसी विध पार उसे कर जाओ; वह देखो, उस पार चमकता है मन्दिर प्रियतम का। आकर इतना पास फिरे, वह सच्चा शूर नहीं है; थककर बैठ गये क्या भाई! मंज़िल दूर नहीं है। दिशा दीप्त हो उठी प्राप्त कर पुण्य-प्रकाश तुम्हारा, लिखा जा चुका अनल-अक्षरों में इतिहास तुम्हारा। जिस मिट्टी ने लहू पिया, वह फूल खिलाएगी ही, अम्बर पर घन बन छाएगा ही उच्छ्वास तुम्हारा। और अधिक ले जाँच, देवता इतन क्रूर नहीं है। थककर बैठ गये क्या भाई! मंज़िल दूर नहीं है।

Find Factorial 8085 November 16, 2009

Filed under: 8085 programs,gnusim8085,microprocessor — whoami @ 19:47
Tags: , ,

[ first install gnusim8085 using
#sudo apt-get install gnusim8085 (ubuntu)
#yum install gnusim8085 (fedora)
]

now just assemble and run the written code below:


lxi sp,27ffh
lda var2
cpi 02h
jc last
mvi d,00h
mov e,a
dcr a
mov c,a
call facto
xchg
shld var
jmp end
last: lxi h,0001h
end: shld var
hlt
facto: lxi h,0000h
mov b,c
back: dad d
dcr b
jnz back
xchg
dcr c
cnz facto
ret
var: db 00h
var2: db 03h ; input the number 3 here, donot give number more than 5

Advertisements